हादसों की ज़द में हैं तो क्या मुस्कुराना छोड़ दें;
जलजलों के खौफ से क्या घर बनाना छोड़ दें??